Home देश प्राइवेट जॉब कर रहे अंधभक्तो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है

प्राइवेट जॉब कर रहे अंधभक्तो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है

प्राइवेट जॉब कर रहे अंधभक्तो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है अब उन्हें उनका मालिक जब चाहे तब लात मारकर निकाल सकता है इससे कोई फ़र्क नही पड़ेगा कि वह कितने सालो से वहाँ नोकरी कर रहे थे……….मालिको को यह अधिकार उनके प्राणों से अधिक प्रिय मोदी जी ने ही दिया है अब कंपनियां परमानेंट नौकरियों को फिक्स्ड टर्म कॉन्ट्रैक्ट में तब्दील कर सकती हैं।

पिछले सप्ताह इंडस्ट्रियल रिलेशंस कोड, 2020 को
नोटिफाई कर दिया गया, इस नए कानून के चलते कंपनियों के मजे हो गए हैं अब कंपनियां फिक्स्ड टर्म कॉन्ट्रैक्ट जॉब के लिए सीधे तौर पर कर्मचारियों की नियुक्तियां कर सकती हैं। इस नए कानून के पहले जो कानून था उसके तहत यह प्रावधान था कि कोई भी औद्योगिक संस्थान परमानेंट कर्मचारियों के पदों को फिक्स्ड टर्म एंप्लॉयमेंट में तब्दील नहीं कर सकता। लेकिन अब इंडस्ट्रियल रिलेशंस कोड, 2020 में ऐसा कोई नियम नहीं है यानी कंपनियों को अब खुली छूट है

मोदी सरकार द्वारा किये गए तमाम श्रम सुधार दरअसल नियोक्‍ताओं के लिए कर्मचारियों की छंटनी को आसान बनाने के लिए ही है

इसी कानून के तहत नियुक्ति एवं छंटनी संबंधी नियम लागू करने के लिए न्यूनतम कर्मचारियों की सीमा 100 से बढ़ाकर 300 कर दिया गया है, जिसके चलते ये प्रबल संभावना जताई जा रही है नियोक्ता इसका फायदा उठाकर बिना सरकारी मंजूरी के ज्यादा कर्मचारियों को तत्काल निकाल सकेंगे और फिर उसी अनुपात में कांट्रेक्ट लेबर के तौर पर भर्ती कर लेंगे.

माना जा रहा है कि इस प्रावधान से 74 फीसदी से अधिक औद्योगिक कर्मचारी और 70 फीसदी औद्योगिक प्रतिष्ठान ‘हायर एंड फायर’ व्यवस्था में ढकेल दिए जाएंगे, जहां उन्हें अपने मालिक के रहमो करम पर जीना पड़ेगा.’

नए कानून के अनुसार कोई भी कंपनी, फैक्ट्री में काम करने वाले कर्मचारियों को सजा देने, निकालने, प्रमोशन में पक्षपात जैसे नियम पूरी तरह से कंपनी के मालिकों के हाथों में आ जाएगें जिससे कर्मचारियों का शोषण और न्याय बढ़ेगा

वैसे नेशनल स्टैटिस्टिक्स ऑफिस पीरियॉ़डिक लेबर फोर्स सर्वे 2018-19 के मुताबिक भारत में सिर्फ 4.2 पर्सेंट कर्मचारी ऐसे हैं, जो सम्मानजनक नौकरियों में हैं।……… अब वो भी नही बचेंगे क्या फर्क पड़ता है ? मोदी जी ने दिल तो जीत ही रखा है अंधभक्तो की नोकरी रहे न रहे , उनके बच्चे चाहे खाने पहनने को तरसे ……क्या फ़र्क पड़ता है !……..
Girish Malviya

Most Popular

Breaking news: 6 मोटरसाइकिल के साथ गिरफ्तार हुआ चोर

  बस्ती । पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा के निर्देशन में अपराधियों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के तहत थाना अध्यक्ष हर्रैया सर्वेश राय ने...

प्राइवेट जॉब कर रहे अंधभक्तो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है

प्राइवेट जॉब कर रहे अंधभक्तो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है अब उन्हें उनका मालिक जब चाहे तब लात मारकर निकाल सकता है इससे...

जया को दिया कंगन का करारा जवाब, कहा-मेरी जगह श्वेता होतीं, तो क्या तब भी…

कंगना रनौत लगातार सुर्खियों में बनी हुई हैं. वो सोशल मीडिया पर बेबाकी से अपनी राय रख रही हैं. अब उन्होंने एक ट्वीट किया...

IPL2020: ये है CSK की ताकत, चैम्पियन बनने की है प्रबल दावेदार

साल 2008 में इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की शुरुआत होने के बाद से अब तक चेन्नई सुपर किंग्स टीम में काफी निरंतरता रही है....

Recent Comments