Home Main Slide जानिए दुनिया के सबसे महंगे टीके के बारे में, बचाता है कई...

जानिए दुनिया के सबसे महंगे टीके के बारे में, बचाता है कई खतरनाक बीमारियों से

पूरी दुनिया कोरोना वायरस से परेशान है. उसकी वैक्सीन आ रही हैं. कुछ बाजार में आने वाली हैं, कुछ आ चुकी है. अलग-अलग कंपनियों की कोरोना वैक्सीन के डोज की कीमत भी अलग है. अलग-अलग बीमारियों से बचाव के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने कई तरह की वैक्सीन यानी टीके विकसित किए हैं. आइए जानते हैं कि दुनिया की सबसे महंगे टीके यानी वैक्सीन कौन से हैं? इनके एक डोज की कीमत क्या होगी? ये किस बीमारी का इलाज करती हैं?

ट्विनरिक्स (Twinrix): 6961 रुपए प्रति डोज – ये वैक्सीन हेपटाइटिस-ए और हेपटाइटिस-बी से बचाव के लिए दी जाती है. इस दवा के कई ब्रांड्स मौजूद हैं, जिन्हें दुनिया भर की अलग-अलग दवा कंपनियां अपने प्रोडक्ट नेम से बनाती हैं.

मेनाक्ट्रा (Menactra): 8383 रुपए प्रति डोज –ये वैक्सीन खतरनाक बीमारी मेनिंगोकोकल मेनिनजाइटिस और मेनिंगोकोकल सेप्सिस के लिए उपयोग में लाई जाती है. इसे फ्रांस की सैनोफी दवा कंपनी इस ब्रांड नेम से बनाती है. आपको बता दें सैनोफी कंपनी में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का भी पैसा लगा है. 

प्रेवनार 13 (Prevnar 13): 10,105 रुपए प्रति डोज – यह वैक्सीन छोटे बच्चों के लिए होती है, जो उन्हें डिप्थीरिया समेत कई बीमारियों से बचाती है. इसका कॉम्बीनेशन है – Pneumococcal 13-valent Conjugate Vaccine (Diphtheria CRM 197 Protein). 0.5 मिलीलीटर की एक डोज 10,105 रुपए में मिलती है. 

यह भी पढ़ें: दिल्ली में 4 डिग्री तक लुढ़का पारा, इस बार हाड़ कंपाने वाली होगी ठंड

गार्डासिल (Gardasil): 10,555 रुपए प्रति डोज – दुनिया की इकलौती वैक्सीन है जो ह्यूमन पैपिलोमावायरस (Human Papillomavirus HPV) से लोगों को बचाती है. HPV यौन संबंध बनाने के दौरान होने वाला बेहद सामान्य संक्रमण है. यह पुरुष और स्त्री दोनों को हो सकता है, वह भी बिना पता चले. 

वैरीसेला (Varicella): 11,752 रुपए प्रति डोज- यह वैक्सीन वैरीसेला वायरस से बचाती है. इसे सामान्य भाषा में चिकन पॉक्स कहते हैं. चिकन पॉक्स में शरीर पर लाल रंग के चकत्ते और दाने उभर आते हैं, जिनमें भयानक दर्द और खुजली होती है. वैरीसेला (Varicella) वायरस बच्चों और बुजुर्गों के लिए बेहद खतरनाक होता है. 

प्रोक्वाड (Proquad): 11,827 रुपए प्रति डोज- यह वैक्सीन 12 साल तक के बच्चों को लगाई जाती है. यह बच्चों को मम्मप्स, मीजल्स और रूबेला (mumps, measles and rubella) जैसी खतरनाक बीमारियों से बचाती है. आमतौर पर इसकी एक डोज काफी होती है लेकिन कई बार दूसरे डोज की जरुरत भी पड़ सकती है. 

जोस्टावैक्स (Zostavax): 13,024 रुपए प्रति डोज – यह वैक्सीन 50 साल या उससे ऊपर के लोगों को शिंगल्स (Shingles) नाम की बीमारी से बचाती है. इस बीमारी को हर्पिस जोस्टर (Herpes Zoster) भी कहते हैं. यह बीमारी उसी वैरीसेला वायरस से होती है, जिससे चिकन पॉक्स होता है. लक्षण भी बीमारी के एक जैसे ही होते हैं. 

 
 
 

Most Popular

क्या न्यू ईयर पर कटरीना और विकी ने की हैं साथ पार्टी, जानिए…

बॉलीवुड अभिनेत्री कटरीना कैफ और फिल्म अभिनेता विकी कौशल का अफेयर अब नए मोड़ पर पहुंच गया हैl खबरों की मानें तो दोनों ने...

गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की हुई वापसी, इस टीम के खिलाफ खेलेंगे टी20 मुकाबला!

भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार नए साल में वापसी करने के लिए तैयार हैं। चोट की वजह से पिछले साल इंडियन...

UP में ठंड का कहर, शून्य के करीब पहुंचा लखनऊ व मथुरा का तापमान

नए वर्ष के स्वागत में ठंड ने भी रिकॉर्ड तोड़ दिया। शुक्रवार को बर्फीली हवाओं की वजह से लखनऊ और मथुरा का न्यूनतम शून्य...

वैज्ञानिकों का बड़ा दावा: सिगरेट पीने से बनता है दिमाग में ‘कोहरा’

सिगरेट, हुक्का, बीड़ी, चिलम या ई-सिगरेट पीने वाले लोगों को दिमाग में कोहरा जमा हो जाता है. ये कोहरा ठीक वैसे ही होता है...

Recent Comments